Breaking News

सिद्धार्थनगर : गर्भवती महिलाएं के स्वास्थ्य विकास को जिले में जागरूकता अभियान चलेगा 22 मार्च तक-पंकज चौबे की रिपोर्ट 

पंकज चौबे की रिपोर्ट 
सिद्धार्थनगर। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत प्राधनमंत्री मातृ वंदना योजना को लेकर जिले में सुपोषित जननी विकसित धरणी जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान में पहली बार गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य विकास के लिए गांव- गली, मुहल्लों में अच्छे स्वास्थ्य व सही खान- पान के लिए जागरूक किया जा रहा है। 8 मार्च से शुरू हुए अभियान के 8वें दिन 15 मार्च तक जिले भर में 982 गर्भवती महिलाओं ने अपना पंजीकरण कराया है। इन महिलाओं को पोषण के लिए तीन किस्तों में सहायता राशि दी जाएगी। जिले में यह अभियान 22 मार्च तक चलेगा।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के डीसीपीएम मानबहादुर ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना गर्भवती महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य एवं पोषण देने के लिए अभियान चल रहा है। गर्भवती महिलाओं के शरीर में दो लोग पल रहे होते हैं, इसलिए बेहतर पोषण आहार लेना इनके लिए आवश्यक है। इसके बाद भी जागरूकता के अभाव में अधिकांश गर्भवती महिलाओं को बेहतर पोषाहार नहीं मिल पाता है। एनएचएम जिले में सुपोषित जननी विकसित धरणी जागरूकता अभियान चला रहा है।
डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम कोआर्डिनेटर (पीएमएमवीवाई) वर्तिका यादव ने बताया कि जागरूकता अभियान के तहत जिले के ब्लाकों में मेडिकल आफीसर (एमवोआईसी) के माध्यम से संवेदीकरण कार्यशाला, जागरूकता रैली, मेला, नुक्कड़ नाटक, बैनर पोस्टर, वीडियो वैन एवं ग्रुप मीटिंग कर गर्भवती महिलाओं को जागरूक किया जा रहा है। मां- बच्चा दोनों स्वस्थ्य रहें, यह परिवार की भी जिम्मेदारी है। जिले के 14 सीएचसी व 59 पीएचसी के माध्यम से पोषण युक्त खाद्य सामग्री मुहैया कराने के लिए अभियान चल रहा है। 8 मार्च से शुरू हुए अभियान में 15 मार्च तक 982 गर्भवती महिलाओं ने अपना पंजीकरण कराया है। यह अभियान 22 मार्च तक चलेगा। पंजीकृत हो रही इन महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य एवं पोषण के लिए मिलने वाली सहायता राशि जल्द ही इनके खातों में भेजी जाएगी।
ऐसे मिलेगा लाभ-
पहली किस्त-
गर्भवती महिला का सरकारी स्वास्थ्य इकाई में 150 दिनों के अंदर पंजीकण कराकर, आवेदन पत्र 1 ए, जच्चा- बच्चा कार्ड (मदर एंड चाइल्ड प्रोटेक्शन कार्ड), आधार कार्ड एवं बैंक डिटेल जमा करना होगा।  मांग बनने की जानकारी होने पर पहली किस्त का एक हजार भुगतान होगा।
दूसरी किस्त-
प्रसव पूर्व कम से कम एक बार जांच करा कर 180 दिन बाद का
गजों के आवेदन प्रपत्र 1 बी एवं जच्चा- बच्चा कार्ड (एमसीपी) जमा करना होगा। इसके बाद दूसरी किस्त  6 माह बाद 2 हजार रूपए का मिलेगा।
तीसरी किस्त-
बच्चे के जन्म होने के बाद पंजीकरण, टीकाकरण की प्रक्रिया पूरी हो चुकी हो। इसमें आवेदन प्रपत्र 1 सी, जच्चा- बच्चा कार्ड (एमसीपी कार्ड), आधार कार्ड एवं शिशु जन्म प्रमाण पत्र जमा करना होगा। इसके बाद तीसरे किस्त का भुगतान 2 हजार रुपए का होगा।

Check Also

IPL 2019 SRH vs CSK: टीम चेन्नई और हैदराबाद के बीच कड़ी टक्कर की उम्मीद – इडिया न्यूज लाइव डाट नेट न्यूज टीम रिपोर्टर श्री भगवान मौर्य की एक रिपोर्ट

श्री भगवान मौर्य की एक रिपोर्ट लखनऊ:- विश्व कप टीम में जगह बनाने से चूके …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

India News Live