All for Joomla All for Webmasters

पटना:- सवर्णों के आरक्षण के लिए आगे आए केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान, बोले गरीब सवर्णो को भी आरक्षण मिले

Apr 14, 2018

सी.के.झा की एक रिपोर्ट ।

पटना:-एलजेपी प्रमुख और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि हम चाहते हैं कि गरीब सवर्णो को भी 10 या 12 प्रतिशत आरक्षण मिले। न्यायपालिका में आरक्षण जरूरी है ये बातें दलित सेना के राष्ट्रीय सम्मेलन में शनिवार को पासवान ने कहा । श्री पासवान ने कहा कि यूपी सीएम रहते मायावती ने एससी-एसटी एक्ट को शिथिल करने का जो आदेश निकाला था, उसके लिए उन्हें दलितों से माफी मांगनी चाहिए। हमारी सरकार सांप्रदायिकता को बर्दाश्त करने वाली नहीं है। दलित सेना के राष्ट्रीय सम्मेलन में शनिवार को पासवान ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तो दलितों के लिए जितना कर दिया उतना सात जन्म में कोई नहीं कर सकता। मांझी को कहां से कहां तक पहुंचा दिया।कांग्रेस बताये कि अपने शासनकाल में उसने दलितों के लिए क्या किया। एससीएसटी एक्ट भी वीपी सिंह की देन है। नरेन्द्र मोदी ने उसे मजबूत किया। पहले 22 अत्याचार उसके तहत आते थे, मोदी ने बढ़ाकर 47 अत्याचारों को शामिल किया। बिहार में निचली अदालतों में नीतीश कुमार ने आरक्षण की व्यवस्था कर दी है। लेकिन जब तक हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में यह व्यवस्था नहीं होगी। दलितों के हक के खिलाफ फैसले आते रहेंगे। उन्होंनें यह भी कहा कि राजद में हिम्मत है तो तेजस्वी यादव को छोड़कर जीतन राम मांझी को सीएम उम्मीदवार घोषित करे।

आरक्षण पर बहस एक साजिश—
केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि आरक्षण पर बहस एक साजिश के तहत की जा रही है। ऐसा करने वाले चाहते हैं कि पिछड़े और दलित इसी में उलझ कर रह जाएं । लोग कहने लगे हैं कि आरक्षण छीन लेंगे। हम कहते हैं कि अभी और लेंगे। उन्होंने कहा कि चाय बेचने वाला पीएम हो सकता है लेकिन वर्तमान व्यवस्था में हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में जज नहीं हो सकता। हम कोर्ट से आग्रह कर रहे हैं कि ऐसी व्यवस्था करे कि दलित, पिछड़े और गरीब भी वहां पहुंचे। राष्ट्रपति ने भी चिंता जताते हुए कहा है कि न्यायपालिका में महिलाएं 25 प्रतिशत भी नहीं हैं। दलित तो शायद ही अब तक कोई हुआ हो।

दलितों को हक के लिए अब भी संघर्ष करना पड़ रहा है किनके कारण

—-

लोजपा संसदीय बोर्ड के चेयरमैन चिराग पासवान ने कहा कि अब तक देश पर शासन करने वालों ने क्या किया । आजादी के इतने दिनों बाद भी दलितों को हक के लिए संघर्ष की जरूरत पड़ती है तो यह तय करना होगा कि इसके पीछे कौन हैं। मेरे रहते आरक्षण पर आंच भी नहीं आ सकती। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने आंबेडकर से जुड़े सभी स्थलों को स्मारक घोषित कर उनका विकास किया है ।

Read More

पटना:-भागलपुर जिला में संचालित गरिमा रियल इस्टेट एंड एलाइड लिमिटेड करोड़ों लेकर मार्केट से फरार, सीजेएम कोर्ट में मामला दर्ज

Mar 28, 2018

सी.के.झा की एक रिपोर्ट ।

पटना:-भागलपुर जिला में संचालित गरिमा रियल इस्टेट एंड एलाइड लिमिटेड एवं गरिमा होम्स एंड फर्म के कार्यालय से संबंधित धोखाधड़ी का मामला सामने आया है । बता दें कि मामला करोड़ों रुपए लेकर गरिमा का चंपत हो जाने का  है । गरिमा रियल इस्टेट एंड एलाइड लिमिटेड एवं गरिमा होम्स एंड फार्म में लाखों करोड़ों रुपए का मामला निवेशकों से जुड़ा है जो मिलना गर्भ में दिखाई दे रहा है । गरिमा पर  पैसा वापसी नहीं होने के कारण कुछ निवेशक सीजेएम कोर्ट भागलपुर की शरण में जाना उचित समझा ।

मामला 2016 से भागलपुर सीजेएम कोर्ट में-

श्री चंद्रानन झा ने परिवाद पत्र दायर 2016 में ही किया है जो मामला गतिशील है । यह मामला श्री चंद्रानंद झा ने गरिमा  द्वारा गबन किए गए करोड़ों रुपए को लेकर दायर किया है जो 2016 में अक्तूवर  का है जिसका केस नंबर 1641/16 के तहत कार्यवाही जारी  है । जानकारी के अनुसार यह केस 19.10. 2016 को दायर किया गया है । जबकि मिली जानकारी से भागलपुर में इसकी शाखा मई 2010 से ही संचालित बताई जाती है एवं बिहार में पटना,हाजीपुर व भागलपुर तीन शाखा ही इनके खुले थे जो वर्तमान समय में सभी बंद है ।

मामला निवेशकों का 12:50 करोड़ का–  

मुकदमा में रियल इस्टेट एण्ड एलाइड लिमिटेड व गरिमा होम्स एंड फार्म के बनवारी लाल कुशवाहा ,शिवराम कुशवाहा , कन्हैया लाल कुशवाहा, बालकिशन कुशवाहा, शोभारानी कुशवाहा , राजेंद्र राजपूत, भीम सिंह कुशवाहा, लज्जाराम कुशवाहा आदि पर किया गया परिवाद में आवेदक ने निवेशकों का 12:50 करोड़ का पेमेंट नहीं करने व तत्काल धोखाधड़ी व गमण का आरोप लगाया है ।  जिसमें श्री झा ने साक्ष्य  सहित कोर्ट में परिवाद दायर किया है । श्री चंद्रानन झा  ने आवेदन में अपने परिवार के भी 4000000 (चालीस लाख) रुपए का निवेश हुआ बताया है । उन्होने केश दायर कर कहा है गरिमा रियल इस्टेट कार्यालय 2015 तक भागलपुर के मनाली चौक स्थित यामहा  शोरुम में चौथवीं फ्लोर पर चल रहा था जो कि 2015 से ही बंद पडा है और शाखा बंद कर कंपनी फरार है ।

गरिमा  का रजिस्ट्रेशन व मुख्य कार्यालय–

गरिमा  का रजिस्ट्रेशन न0-19955,  रजिस्टर्ड कार्यालय- 403 सौरव प्लाजा गोल का मंदिर ,नजदीक सुरुचि होटल ,ग्वालियर (MP) है तथा कारपोरेट कार्यालय- 459 पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया दिल्ली 93 फोन नंबर +91114735468, 4735582 जो निवेशक के एग्रीमेंट में निहित है । इसमें यह भी बताया गया है कि उस समय इस कार्यालय के शाखा प्रबंधक गौरी शंकर झा जो दरभंगा के थे के देखरेख में कार्य संपादन एग्रीमेंट देने व रसीद देने का कार्य होता रहा था । इनके बाद शाखा का कार्यभार प्रबंधक  मनोज कुमार पटना निवासी ने संभाल रखा था । मिली जानकारी से 2015 तक मनोज ने ही शाखा का वर्तमान कार्य प्रभारी रहे । इन  दिनों शाखा से कुछ प्लान का कुछ निवेशकों का मैच्योरिटी भी प्राप्त हुआ था । इसके बाद और मैच्योरिटी करने से पहले ही गरिमा का कार्यालय बन्द हो गया । इसी मैच्योरिटी को लेकर अशोक चौधरी,राजेश चौरसिया,अमन खान के साथ आवेदक चंद्रानन झा भी दिल्ली मुख्यालय में कंपनी के प्रबंधन से कई बार मिलने भी गए लेकिन कार्य सिफर रहा । श्री झा ने कहा कि हमलोगों के मुख्यालय में प्रबंधन के साथ 2-3 मुलाकात के बाद  प्रबंधन द्वारा 5200000 (बाबन लाख) का चेक भी  दिया गया , जिसे निवेशक के बेंकों में अपने खाता में डालने के बाद बाॅन्स हो गया। मिली जानकारी के अनुसार बालकिशन  कुशवाहा धौलपुर राजस्थान से बसपा के विधायक भी रहे हैं जो अभी हत्या के मामले में जेल में हैं । बतादें कि उपरोक्त आरोपियों में से शोभारानी कुशवाहा भी अभी वर्तमान में बीजेपी की विधायक हैं । श्री झा का कहना है कि इस प्रकार के कम्पनी के संचालक राजनीतिक जीवन से जुड़कर अपने को निवेशकों से बचने का रास्ता ढूंढकर चंपत होने से बाज तक नहीं आते । इनका कहना है कि ये लोग  इसी राजनीति के पहुँच के बदौलत निवेशकों के चंगुल से निकल कानून को धता बताने से भी नहीं चूकते । जरूरत है सरकार व कानून के सिपाहियों से ऐसे लोगों से निवेशकों को कानूनन न्याय दिलवाने की ।

परिवाद में गवाह—

इस प्रकरण में साक्षी के रूप में अशोक चौधरी,राजेश कुमार चौरसिया, मो0 अमन खान,मो0 फकरूद्दीन उर्फ फेकू ,कैलाश शर्मा आदि का नाम वर्णित है । जिसमें कुछ का गवाही व बयां भी लिखित रूप से कोर्ट ने लिया है ।

गरिमा रियल इस्टेट एण्ड एलाइड लिमिटेड  व गरिमा होम्स एंड फर्म में  लगभग 125000000 (साढे बारह करोड़) लाख रुपये का मामला  निवेशकों से जुड़ा है ।

कोर्ट ने लगाया सुसंगत धारा—-

इस मामले में कोर्ट ने मुख्य रूप से धारा 406 ,420 467, 468, 476, 120 बी /34 भा0स0वि0 के अंतर्गत प्रथम दृष्टया दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर आरोपियों को नोटिस भी किया है ।

लगभग आधा दर्जन जिले के निवेश डूबे–

हजारों निवेशकों का भागलपुर जिले में उस समय स्थित इस कार्यालय में लगभग आधा दर्जन जिलों से जमा करोड़ों का निवेश हुआ था  जिसमें भागलपुर,कटिहार, पूर्णिया, सहरसा ,मधेपुरा, खगड़िया आदि जिले का निवेशक है ।

निवेशकों की मांग निवेश की रकम वापस हो-

निवेशकों की मांग है कि हम लोगों का  जल्द से जल्द सरकार निवेश किये रूपये वापस दिलवाने हेतू सहयोग करें ।

निवेशक अशोक चौधरी, राजेश कुमार चौरसिया,  मोहम्मद अमन खान, मोहम्मद फखरुद्दीन उर्दू फेकू, राजीव रंजन ठाकुर, पवन कुमार ,वीरेंद्र कुमार ,अमन आर्या, मो0 नियामत आलम ,रीना झा ,राजकिशोर कुंवर, सिंटु ठाकुर,विजय कुमार झा, देवेंद्र कुमार सिंह ,घोलट झा, अमोद कुमार झा ,चंदन कुमार झा आदि ने प्रशासन से मांग की है कि हजारों निवेशकों का जमा धन वापस करने की पहल में सरकार व प्रशासन सहयोग करें जिससे कड़ोड़ों निवेश  किये गये पैसे को वापस दिलवाये जाने में मदद मिल सके ।

Read More

पटना:-सम्पादकीय:-(पत्रकारिता विशेष) इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में स्मार्टफोन के दम पर तीसरी आजादी की ओर चौथा स्तंभ

Mar 20, 2018

सी.के.झा की कलम से एक रिपोर्ट ।

                     सम्पादकीय

                 (पत्रकारिता विशेष)

पटना:- इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में स्मार्ट फोन के दम पर पत्रकारिता तीसरी आजादी की ओर तेजी से बढ़ रही है हालांकि यह बदलाव प्रिंट मीडिया के लिए परेशानी का कारण जरूर है लेकिन तकनीकें बदलती है तो तकदीरें भी बदलती ही हैं. कभी अखबार ट्रेडल पर छपा करते थे, फिर  सिलेंडर आफसेट मशीन पर आ गए तो ब्लैक एंड व्हाईट, फोटो ब्लॉक से सेपरेट कलर से लेकर मिक्स कलर तक का सफर ऐसे ही तय नही किया है. प्रिंट मीडिया में इन बदलावों के दौरान भी कई बेरोजगार हुए तो कइयों का कैरियर खत्म हो गया. जब कंप्यूटर युग शुरू हुआ तो कई वरिष्ठ पत्रकार, पत्रकारिता की मुख्यधारा से ही अलग हो गए. 

करवट लेते तकनीक में हुंकार भरा  पत्रकारिता —

अब तकनीक फिर करवट ले रही है. यह अच्छे पत्रकारों के लिए यकीनन एक सुखद बदलाव है. क्योंकि यह पत्रकारिता को तीसरी आजादी की ओर ले जा रही है. बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में पत्रकारिता का उदय हुआ तथा आजादी से पहले और बाद में कई अखबार निकले जो कॉर्पोरेट आधार पर नहीं, कलम के आधार पर जाने-पहचाने जाते थे.

अखबारों का संघर्ष व उनकी तस्वीर पर एक नजर—

आजादी से पहले इन अखबारों ने बड़ा संघर्ष किया क्योंकि अंग्रेजों ने कई नियम लाद रखे थे, दुर्भाग्य से आज भी प्रेस एक्ट उसी जमाने के नियमों की सजावटी फोटोकॉपी है. उस युग की तस्वीर की कल्पना केवल इससे की जा सकती है कि आजाद बांसवाड़ा के पहले प्रधानमंत्री प्रसिद्ध पत्रकार भूपेन्द्रनाथ त्रिवेदी को अखबार पढ़ने के जुर्म में सजा दी गई थी. देश आजाद हुआ तो पत्रकारिता को पहली आजादी मिली. आजादी के बाद के तीन दशक पत्रकारिता का स्वर्णयुग था. लेकिन इसके बाद सातवें दशक में आपातकाल ने एक बार फिर पत्रकारिता को गुलाम बना लिया. अखबारों की स्थिति सरकारी प्रेसनोट जैसी हो गई लेकिन समय बदला और पत्रकारिता को दूसरी आजादी मिली.

कलम की ताकत से पत्रकार की पहचान तक का सफर–

इंडियन एक्सप्रेस, जनसत्ता, नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों ने एक बार फिर कलम की ताकत दुनिया को दिखाई लेकिन आठवें दशक के बाद जाने-अनजाने पत्रकारिता फिर कमजोर पडने लगी. एक ओर जहां सरकारी लाभ के घोषित/अघोषित नियमों ने अच्छे-अच्छे अखबारों को फाइल कॉपी तक पहुंचा दिया वहीं बाजार के दबाव में बड़े-बड़े अखबार सजावटी होते चले गए. कलम की ताकत से पहचाने जानेवाले पत्रकार की पहचान बड़ी कार हो गई. 

इंटरनेट की बढ़ती ताकत पत्रकारिता तेजी से तीसरी आजादी की ओर—-

इस दौरान इलैक्ट्रॉनिक मीडिया भी आया लेकिन उसके भी भारी भरकम खर्चे बाजार पर ही निर्भर रहे इसलिए वहां भी पत्रकारिता सजावटी ही बनी रही. कभी कलम पत्रकारों की तलवार होती थी लेकिन नई एक्कीसवीं सदी में तलवार की जगह म्यांन थमा दी गई. चाहे जितना लड़ो, चाहे जितना लिखो. नुकसान कुछ नहीं होना है, नतीजा कुछ नहीं निकलना है. लेकिन अब स्मार्ट फोन और इंटरनेट की बढ़ती ताकत पत्रकारिता को तेजी से तीसरी आजादी की ओर ले जा रही है. इस बीच कई सवाल खड़े हो गए हैं कि इसका व्यावसायिक ढांचा क्या है? फायदा क्या है? यकीनन प्रिंट और इलैक्ट्रानिक मीडिया के करोड़ों की कमाई के मुकाबले इसकी कुछ भी कमाई नहीं है लेकिन सवाल यह है कि पत्रकारिता व्यवसाय कब थी? इसे तो व्यवसाय बना दिया गया है.

हां, जहां तक इसकी ताकत की बात है तो आनेवाला समय दिखाएगा कि अच्छे पत्रकारों की कलम में फिर जान आ रही है. पत्रकारिता का स्वर्णयुग लौट रहा है.

Read More

पटना:- बिहार के अनूप भारती नें गेट परीक्षा में 79.33 फीसदी अंक प्राप्त कर भारत में पहला स्थान लाया ,पुरे बिहार वासियों में हर्ष

Mar 17, 2018

सी.के.झा की एक रिपोर्ट ।

पटना:-अनूप भारती एनआईटी पटना का पूर्ववर्ती छात्र है इन्हें 79.33 फीसदी अंक प्राप्त हुआ और देशभर में पहला स्थान गेट 2018 में मिला है। अनूप को देशभर में पहला स्थान गेट 2018 में आर्किटेक्चर एंड प्लानिंग पेपर में पाया है । इनका पूरा परिचय  इनके पिता अनिल केंद्रीय विद्यालय, बेली रोड में शिक्षक हैं।

अनूप नालंदा जिला के गोमहर गांव का रहनेवाले हैं।बतादें कि इस बार गेट का आयोजन आईआईटी गुवाहाटी ने किया था।  वहीं, छपरा के दहियावां के निवासी और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी पटना से एमयूआरपी 2017-19 सत्र के छात्र मो. आलम हसन अंसारी को पूरे देश में 73 वां रैंक हासिल हुआ है। उनका एग्जामिनेशन पेपर आर्किटेक्चर एंड प्लानिंग का था।

मिली जानकारी के अनुसार तय तिथि से एक दिन पहले ही यह रिजल्ट जारी किया गया है। स्कोर कार्ड 20 मार्च से डाउनलोड होगा। परीक्षार्थी वेबसाइट http://gate.iitg.ac.in पर परिणाम देख सकते हैं।

Read More

पटना:-अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति संगठन का पंजीकरण होने से पत्रकार सदस्यों में है खुशी का माहोल

Mar 13, 2018

इंडिया न्यूज लाइव.नेट डेस्क बिहार ।

पटना:-संगठन सदस्यों के अथक प्रयास से अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति संगठन का पंजीकरण से पत्रकार सदस्यों में आज खुशी का माहोल देखा जा रहा है । संगठन के प्रदेश अध्यक्ष विनोद पाण्डेय ने बताया कि फोन से उक्त आशय की जानकारी संगठन के राष्ट्रीय महासचिव महफूज खान ने आज दी और बताया कि अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति द्वारा दिया गया परिचय पत्र व बैनर पत्रकारिता के इस क्षरण के दौर में पत्रकारों के सम्मान में महत्वपूर्ण योगदान देगा । श्री पाण्डेय ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जीग्नेश कलावाडिया के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हमारा परम सौभाग्य है कि एक कर्तव्यनिष्ठ व पत्रकारों के हित को अपने जीवन का उद्देश्य बनाने वाले राष्ट्राध्यक्ष के रूप में श्री कलावाडिया जी का सानिध्य मिला । संगठन के राष्ट्रीय महासचिव महफूज़ खान ने भारत सरकार के प्रति संगठन के तरफ से आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पत्रकार सुरक्षा कानून पत्रकारों का हक है और हम सम्पूर्ण भारतवर्ष में पत्रकार हित में कार्य करने के लिए वचनबद्ध हैं । उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति सरकार द्वारा  पंजीकरण हो गया है जिसका पंजीकृत क्रमांक S/1873/2018 है । उन्होंने ये भी कहा कि अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति का एकमात्र उद्देश्य भारत में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू हो का है । कोई कहता कि संगठन का आज ही दिवाली, दशहरा,ईद व गुरु पूर्णिमा है तो कोई कह रहा आज पत्रकार के लडाई के लिए एक बैनर एक बोल तैयार कर लिया ।

इसी कड़ी में चंदन कुमार झा (सी.के.झा) एबीपीएसएस सदस्य सह इंडिया न्यूज लाइव.नेट के बिहार के संपादक ने कहा है कि इस तरह के खुशनुमा माहौल बनाने के लिए बिहार प्रदेश अध्यक्ष विनोद पाण्डेय ने काफी मशक्कत की है जिसका परिणाम आज संगठन के सभी सदस्य एकजुट होकर लेंगे । उन्होंने कहा कि हम इस संगठन के लगभग एक वर्ष पूर्व सदस्य माननीय प्रदेश अध्यक्ष विनोद पाण्डेय द्वारा  बनाये गये थे जिसके बाद उन्होंने एक माह के अन्दर ही हमारी कार्यकुशलता को देखते हुए प्रदेश संगठन के कोर कमिटी में जगह दी थी । उन्होंने ये भी कहा कि लगभग एक वर्ष पूर्व से आज तक संगठन दिनानुदिन तरक्की के शिखर पर अग्रसर है जिसका श्रेय बिहार में माननीय प्रदेश अध्यक्ष को जाता है । श्री झा ने कहा कि आज संगठन का अच्छा दिन साबित हुआ है जब हम पत्रकार मित्र रजिस्टर्ड एबीपीएसएस संगठन के बैनर के नीचे पत्रकार हितों का प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक अपनी सुरक्षा, संरक्षा व हमारे साथ हो रहे अपमान आदि की बातों को जोरदार तरीके से सरकार के सामने रख पायेंगे । अन्त में सी.के.झा ने कहा कि जो पत्रकार मित्र इस संगठन से अबतक जुड़ नहीं सके हैं आऐं हमारे संगठन के साथ कदम से कदम मिलाकर अपनी मांग को जोरदार तरीके से एक बैनर के तले रखें । हमारी संगठन एबीपीएसएस  से जुड़ने हेतू हमारे  ह्वाट्सएप नंबर 9934276053 पर भी संपर्क कर सकते हैं हम सदैव आपके साथ मिलेंगे ।

संगठन के रजिस्ट्रेशन हो जाने से भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति के बिहार संगठन के सदस्य सहित प्रदेश कमिटी के सदस्यों में काफी उत्साह है । इस अवसर पर संगठन के पत्रकार सदस्य शशिकांत झा,नवेंदू, किशोर,संजय सिंह,अमितेश रवि,रमेश शंकर झा,मुकेश सिंह,राजू,सर्वेश ,विकास राय,कुबेर पाण्डेय अभिनंदन,अवध बिहारी,सुभाष कुमार पांडेय, सुनील ,अजीत आदि सहित सैकड़ों पत्रकार मित्र ने राष्ट्रीय अध्यक्ष , सभी राष्ट्रीय कोर कमिटी सदस्य, बिहार प्रदेश के अध्यक्ष व  सभी  प्रदेश के कोर कमिटी  सदस्यों सहित सभी पत्रकार मित्र सदस्यों ने खुशी जाहिर करते हुए सभी को धन्यवाद दिया ।

Read More

बिहार:-बिहार राज्य के कर्मठ इंडिया न्यूज लाइव .नेट के संपादक व संवाददाता मित्रगण

Mar 1, 2018

बिहार राज्य के कर्मठ इंडिया न्यूज लाइव .नेट के संपादक व संवाददाता मित्रगण ।

1) सी.के.झा  संपादक बिहार:-

2) रजनीश तिवारी सहसंपादक पटना बिहार:-

3) जिला संवाददाता पूर्वी चम्पारण:-

4) प्रखण्ड संवाददाता बिदुपुर (वैशाली):-

5) जिला संवाददाता सारण:-

6) शाहंसाह कैफ प्रखंड संवाददाता चौसा(मधेपुरा):-

7) जिला संवाददाता सुपौल:-

8) जिला संवाददाता मुंगेर:-

9) प्रखंड संवाददाता अरेराज (पू0च0):-

10) प्रखंड संवाददाता हाजीपुर :-

11) जिला संवाददाता भागलपुर:-

12) प्रखंड संवाददाता उदाकिशुनगंज :-

13) कोनैन बसीर (अनुमंडल संवाददाता उदाकिशुनगंज)

14) अंकित कुमार जायसवाल (प्रखंड संवाददाता सोनवरसा)

15) अभिषेक कुमार (जिला संवाददाता वैशाली)

16) संतोष कुमार झा(प्रखंड संवाददाता आलमनगर)

17) सुमन कुमार सिंह (जिला संवाददाता अररिया)

18) विजय कुमार साह (जिला संवाददाता किशनगंज)

19) विकास कुमार मांझी(प्रखंड संवाददाता गडखा)

20) दिलावर अंसारी (जिला संवाददाता बांका)

21) आकाशदीप  (खण्ड संवाददाता नयानगर)

22) एडी खुश्बू ( प्रखंड संवाददाता फलका)

23) किशोर चौहान  (प्रखंड संवाददाता बिहटा) ।

24) गणेश कुमार जिला संवाददाता औरंगाबाद 

 

 

 

 

 

 

 

Read More

निरंकारी सामूहिक विवाह समारोह में 99 जोड़े विवाह सूत्र में बंधे

Feb 3, 2018

चंडीगढ़:संत निरंकारी मिशन द्वारा आयोजित सामूहिक शादी समारोह में 99 जोड़े, सतगुरु माता सविंदर हरदेव जी महाराज एवंभारी संख्या में भक्तगणों की उपस्थिती में, विवाह सूत्र में बंधे।  विवाह स्थल था खारघर का सिडको मैदान, मुंबई जहां पर महाराष्ट्र का 51 वांवार्षिक निरंकारी सन्त समागम था। इस संबंध में जानकारी देते हुए संयोजक ने बताया कि जहां 40 दुल्हे एवं 41 दुल्हनें मुंबई से हैं वहीं 44दुल्हे एवं 46 दुल्हनें महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों से आये थे   14 दुल्हे एवं 11 दुल्हनें देश के विभिन्न राज्यों से थे  जिसमे दिल्ली, गुजरात,उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, झारखंड, हरियाणा, मध्य प्रदेश, पंजाब, चंडिगढ़, राजस्थान और आसाम इन राज्यों का समावेश है  1 दुल्हा और एक दुल्हन यु.एस.ए. से थे

उनकी शिक्षा एवं पेशे की दृष्टि से 31 दुल्हे एवं 25 दुल्हनें स्नातक हैं और 5 दुल्हे एवं 11 दुल्हनें स्नातकोत्तर हैं  दुल्हों में 6 इंजिनियर, 2एमबीए शामिल हैं वहीं दुल्हनों में 2 इंजिनियर 2 डॉक्टर, 2 एमबीए शामिल है

यह कहना रोचक होगा कि 18 दुल्हे एवं 13 दुल्हनें मिशन के बाहर से आये थे 7 इसका अर्थ है कि 31 परिवारों ने निरंकारी मिशन द्वाराआयोजित सादा शादी पद्धति को पसंद किया 7 3 दुल्हनें एवं 3 दुल्हे पुन:विवाह कर रहे हैं

समारोह का शुभारंभ निरंकारी मिशन के पारंपरिक ‘जयमाला’ एवं सांझा हार से हुआ 7  संगीत के बीच पवित्न मंत्न स्वरु प 4 निरंकारी लांवांपढ़ा गया एवं हर लांवां के अंत में सद्गुरु  माता जी एवं अन्य श्रद्धालु भक्तों द्वारा जोड़ों पर फूलों की वर्षा की गई

सद्गुरु  माता सविंदर हरदेव जी के आशीर्वचनों के साथ यह समारोह संपन्न हुआ 7 सद्गुरु  माता जी ने जोड़ों को सेवा, सुमिरण एवं सत्संगकरते हुए खुशहाल गृहस्थ जीवन का आशीर्वाद प्रदान किया

Read More

सुरिंदर वर्मा बने नेशनल मीडिया कॉन्फीड्रेशन के उत्तर भारत के प्रभारी

Jan 12, 2018

चंडीगढ़ (रवि शर्मा ):नेशनल मीडिया कॉन्फीड्रेशन (एनएमसी) की कार्यकारिणी द्वारा नेशनल मीडिया कॉन्फीड्रेशन के पंजाब प्रदेश व चंडीगढ़ के प्रभारी सुरिंदर वर्मा को उनकी सेवाओं के प्रति कार्य कुशलता एवं कर्मठता को देखते हुए उत्तर भारत का प्रभारी नियुक्त कर एनएमसी का कार्यभार सौंपा गया है | एनएमसी के संस्थापक पुष्पा पांडेय ने यह घोषणा करते हुए बताया कि सुरिंदर वर्मा ने पंजाब प्रदेश व चंडीगढ़ के प्रभारी होने के साथ साथ नेशनल मीडिया कॉन्फीड्रेशन के उप-प्रधान का कार्य भी बखूबी निभाया और सबसे कम समय में नेशनल मीडिया कॉन्फिडेरशन को आसमान कि बुलंदियों तक पहुँचाने में एक अहम योगदान निभाया है | उन्होंने बताया कि नेशनल मीडिया कॉन्फीड्रेशन आशा करता है कि सुरिंदर वर्मा उत्तर भारत में भी अपने तन मन धन से सहयोग कर उम्दा कार्य करेंगे |

Read More