All for Joomla All for Webmasters

वरिष्ठ नेता राधारमण त्रिपाठी ने लुम्बिनी-दुद्धी मार्ग के (NH 233) के निमार्ण के लिए प्रधानमंत्री को दिया ज्ञापन ,कहा समस्या से परेशान जनपद वासिओ नही ले रहा कोई सुध- RAJESH SHARMA SIDDHARTH NAGAR राजेश शर्मा की एक रिपोर्ट

Apr 17, 2018

 

राजेश शर्मा की एक रिपोर्ट 

सिद्धार्थ नगर- वरिष्ठ नेता राधारमण त्रिपाठी ने लुम्बिनी-दुद्धी मार्ग के (छभ्233) के निमार्ण के लिए प्रधानमंत्री को दिया ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से देते हुए कहा की पुरा जनपद आज (छभ्233) के गढढे और धुल भरे सडको से परेशान है लेकिन कोई भी अधिकारी और जनप्रतिनिधि समस्या से परेशान जनपद वासिओ कोई सुध नही ले रहे है उन्हे क्या पता की खास कर सनई से मुख्यालय तथा मुख्यालय से बर्डपुर तक सड़क के किनारे रहने वाले लोगो किस गंभीर सूस्याओ से धिरते जा रहे है उन्होने ज्ञापन मे लिखा कि बहुत ही निराशा और खेद के साथ प्रधानमत्री महोदय आप को बता रहा हॅु कि महात्मा बुद्ध की राजधानी कपिलवस्तु को जो तोफा अच्छी सड़को के रूप 450 किलोमीटर का मिला है वह मात्र 65 किलो मीटर ही बना हुआ है शेष गढढो से भरा पड़ा है जिस पर 4 वर्षो से आज तक तारकोल तक नही पडा है
उन्होने सड़क निमार्ण पर दोष लगाते हुए कहा की तीन वर्षो से सड़क के किनारे रहने वाले सनई से मुख्यालय तथा मुख्यालय से बर्डपुर की जनता को गभीर रोगो ने अपने चपेट मे लेना शुरू कर दिया है लोगो मे दमा, अस्थमा, त्वचा रोग, आखों की गभीर विमारीयो ने घेर रखा है जिससे बचने के लिए प्रशासन ने भी कोई पहल नही की है
उन्होने आरोप लगाते हुए कहा की जनपद से जुड़े अन्य सभी जनपदो का सड़क बन कर तैयार हो चुका है लेकिन क्यू मात्र सिद्धार्थ नगर के सड़को निमार्ण नही हो रहा है यह सरकार कार्यो पर प्रश्न चिन्ह लगा रहा।
वरिष्ठ नेता राधारमण त्रिपाठी ने प्रधानमंत्री से आग्रह करते हुए कहा की सनई से मुख्यालय तथा मुख्यालय से बर्डपुर की जनता जो 4 वर्षो से गभीर रोग के चपेट मे है उन्हे मुआवजा दिलाये जिससे वे अपना और अपने परिवार का मेडिकल टेस्ट करा कर इलाज करवा सके।

Read More

भावाधस का एक शिष्टमंडल चंडीगढ़ पुलिस के डीजीपी एवं एसएसपी से मिले

Apr 15, 2018

भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज का एक प्रतिनिधि मंडल चंडीगढ़ पुलिस के डीजीपी एवं एसएसपी से मिले और सोनू शर्मा द्वारा अभद्र भाषा के प्रयोग हेतु कानूनी कार्यवाही की मांग की, वंही चंडीगढ़ पुलिस द्वारा आश्वासन दिलवाया गया कि मामले की गहनता से जाँच की जाएगी और आरोपी सोनू शर्मा को गिरफ्तार किया जायेगा |
भावाधस का एक शिष्टमंडल स्वामी चंद्रपाल अनार्य की अध्यक्षता में चंडीगढ़ पुलिस के डीजीपी एवं एसएसपी नीलांबरी देवी से मिले और उक्त मामले के बारे में अवगत करवाया | उन्होंने बताया की सोनू शर्मा जैसे असामाजिक तत्व शहर में कानून व्यवस्था को बिगड़ने की कोशिश कर रहे हैं जिस से वाल्मीकि समाज में खासा रोष है | यदि इस प्रकार के असामाजिक तत्व को काबू न किया गया या कोई कार्यवाही ना की गयी तो भावाधस अपने वाल्मीकि समाज हेतु ही नहीं बल्कि अनुसूचित जाति के अपमान का बदला लेने से पीछे नहीं हटेंगे |
एसएसपी नीलांबरी देवी ने इस शिष्टमंडल को विश्वास दिलवाया की उक्त आरोपी पर बनती कानूनी कार्यवाही की जाएगी और जल्द गिरफ्तार किया जायेगा

Read More

एक्यूप्रेशर पद्धति से हर बीमारी का पक्का इलाज संभव है : अर्चना 

Apr 15, 2018

किसान भवन में एक्यूप्रेशर शोध प्रशिक्षण एवं उपचार संस्थान द्वारा तीन दिवसीय सेमिनार आरम्भ

चण्डीगढ़। सर्दी-जुकाम, स्लिप डिस्क से लेकर सर्वाइकल, डायबिटीज एवं बीपी तक का पक्का इलाज हो सकता है एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्धति से। ये बात सेक्टर 35 स्थित किसान भवन के सरदार प्रताप सिंह कैरों हाल में एक्यूप्रेशर शोध प्रशिक्षण एवं उपचार संस्थान  द्वारा आयोजित तीन दिवसीय सेमिनार में एक्यूप्रेशर विशेषज्ञ प्रोफेसर अर्चना दुबे ने पंजाब एवं चंडीगढ़ से आए हुए एक्यूप्रेशर चिकित्सकों को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने सेमीनार के पहले दिन आज इस चिकित्सा पद्धति के बारे में उपयोगी एवं नवीनतम जानकारियां प्रदान की।  संस्थान के प्रवक्ता डॉ. पी एन गुप्ता, जो संस्थान के सेक्टर २० स्थित चंडीगढ़ सेण्टर के संचालक व एक्यूप्रेशर प्रशिक्षक भी हैं, ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा देने के लिए चंडीगढ़ से किसान भवन में हर दूसरे महीने सेमिनार करवाया जाता है। इसी श्रंखला में 14 से 16 अप्रैल 2018 तक जीभ देखकर एक्यूप्रेशर द्वारा इलाज विषय पर ये सेमीनार कराया जा रहा है। इंटरनेशनल नेचुरोपैथी आर्गेनाईजेशन,चंडीगढ़ की अध्यक्ष मीना शाह ने बताया की यह एक सम्पूर्ण वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति है। उन्होंने बताया कि यह क़ुदरती थेरेपी है जिसका जन्मदाता  भारत है। विदेशों में एक्यूप्रेशर और नेचुरोपैथी पद्धति का बहुत ज्यादा चलन है परन्तु  भारत इससे पिछड़ता जा रहा है।
इसीलिए भारत के जन-जन तक इस पद्धति को पहुंचाने के उद्देश्य से एक्यूप्रेशर सेमिनार और नेचुरोपैथी सेमिनार के आयोजन करवाए जाते हैं ।
डॉ. गुप्ता के मुताबिक उनके संस्थान के भारत में 500 से अधिक सेंटर हैं जहां इस पद्धति के तहत उपचार किया जाता है एवं प्रशिक्षण भी दिया जाता है। उन्होंने बताया कि उनके संस्थान के सेंटर्स से दसवीं कक्षा उत्तीर्ण विद्यार्थी भी सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं जो 6 महीने का होता है। बाद में 1 साल का डिप्लोमा व बारहवीं कक्षा के बाद 2 साल का एडवांस डिप्लोमा भी कराया जाता है इस चिकित्सा पद्धति का प्रशिक्षण लेकर न केवल स्वयं का एवं अपने परिवारजनों का घर पर ही इलाज किया जा सकता है बल्कि आम जनता का भी इलाज किया जा सकता है जिससे रोजगार भी हासिल होता है। इस चिकित्सा पद्धति की सबसे बड़ी बात यह है कि इससे बिना सर्जरी के भी कई बीमारियों का इलाज संभव है।

Read More

Three day Sub-Himalayan SJOBA Rally kicks off with Super Spectator Stage

Apr 15, 2018
 
Sub Himalayan SJOBA Rally starts, vehicles scrutinised followed by a breathtaking motor skills display
 
Chandigarh, April 13,2018:
 
The St. John’s Old Boys Association (SJOBA), an alumni association of St. John’s High School, Chandigarh founded in 1980 with the affiliation of both the Motor sport authorities in India i.e. MAI and FMSCI is organizing the 31st Annual Sub-Himalayan SJOBA KRISHNA ISUZU Rally from 13th to 15th, April 2018.The three day mega event was kicked off on April 13 with the scrutiny of the vehicles and Super Spectator Stage (SSS) set up at Exhibition Ground of Sector 34.
 
The first day witnessed an environment of adventure and enthusiasm with expert riders and drivers showcasing their motoring skills on a sand and mud filled track. The jam packed ground presented the excitement of the event among the sports enthusiasts of tricity. Nearly 39 riders on 4 wheelers and 19 motorcyclists on bikes in the extreme category of event made the viewers hold their breath. The modified vehicles on the track presented an adventurous & picturesque view. The Super Spectator Stage also assessed vehicles for their rally worthiness & a proper scrutiny of these was conducted.
 
SPS Ghai, COC(Clerk of Course) of Rally, while talking to media said, “Today we scrutinised the vehicles & also held a motor skills display by riders & drivers. The Sub Himalayan SJOBA rally will be flagged off from St John’s School, Sec 26 on April 14 at 6:30 am. I remember the time of 1981 when first SJOBA Motorcycle rally was held and it makes me and my team feel satisfied that motor sports is getting exposed to the amateurs in a professional way..”
Apart from the ‘Challenge Rally,’ SJOBA is also organizing the ‘Endurance Trial’ .The total prize money for the 2018 Rally is around 6.75 lakhs and trophies will also be given.
 
The Challenge Rally ( Extreme) will be open to jeeps/cars/bikes and will be scheduled over a period of 2 days with the participants being required to cover approximately 250 kms per day. The route will be a challenging and an adventurous one covering “axle-breaking” river beds (both dry and wet), fast tarmacs with winding hair pins, unmetalled surfaces and exhilarating hilly terrain in Haryana and Himachal Pradesh. The competitive stretches will be evenly spaced and followed by the transport sections.
 
Participants are likely to face 5 competitive sections on each day, which challenge the drivers concentration abilities, physical endurance and driving skills. “This event is unique in itself because it has given the people of tricity an opportunity to enjoy such an adventure which is usually accessed in hills. It is the oldest rally of its kind in North India” said Sandeep Sahni, President SJOBA.
 
Participants in the Endurance Trial( TSD) will be able to compete in their unmodified cars making this an excellent opportunity for amateurs and for those who want to have a feel of what rallying is all about. The route for the Endurance Trial will be like that of the Rally, but the trial will be run on a TSD format.
 
One of the most professionally organized rallies today, the SJOBA-Sub-Himalayan Rally attracts professionals and budding rallyists from all over the country who want to take up the professional circuit. The rally has become a nursery for motor sports in North India and many rallyists from this region have honed their skills and proved their mettle in the SJOBA Rally. Hari Singh, Bitto Mann, Manik Rekhy, Samrat Yadav,Suresh Ranna and Sunny Sidhu to name a few.
 
Each participant is provided with excellent boarding and lodging during the entire event.
 
The safety of the rallying has always been a priority of SJOBA. Hence, there are FIVs (First Intervention Vehicles) and ambulances in each competitive stage with SJOBA marshals and doctors available with full medical assistance. Each Marshal on the route also carries a first aid kit with himself.
Read More

भाजपा की महिला सुरक्षा को लेकर नाकामियों की वजह से मनाया जाएगा काला दिवस-सुमित्रा चौहान

Apr 15, 2018

महिला कांग्रेस ने महिला सुरक्षा के लिए कसी कमर

फेल हुई भाजपा सरकार -सुमित्रा चौहान

 हरियाणा प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में  महिला कांग्रेस बैठक का आयोजन किया गया जिसमें विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत रूप से चर्चा की गयी जिसमें मुख्यता रूप से 17 अप्रैल 2018 को पूरे देश में काला दिवस के रूप में अखिल भारतीय महिला कांग्रेस द्वारा मनाया जाएगा जिसमें हरियाणा के सभी 22 जिलों के मुख्यालय पर नरेंद्र मोदी एवं मनोहर लाल खट्टर के पुतले जलाए जाएंगे आज महिला कांग्रेस ने निर्णय लिया कि भारतीय जनता पार्टी अंधी गूंगी-बहरी है जिसको ना तो दिखता है कि हमारी बच्चियों की अस्मत रोज लूटी जा रही है ना उनको सुनता है एक बच्ची का कराहता हुआ दर्द और ना ही उनको कुछ दिखता है एक बेटी का दर्द एक बाप का दर्द एक मां का दर्द इसलिए महिला कांग्रेस ने निर्णय लिया है कि 17 अप्रैल को सभी जिला मुख्यालय पर महिला कांग्रेस भाजपा के पुतले फूकेंगी इसके साथ-साथ यह भी निर्णय लिया की हरियाणा महिला का लगातार अपराध बढ़े हैं एनसीआरबी के  रिकॉर्ड के आधार पर जब से भारतीय जनता पार्टी की सरकार आई है 4 गुना से ज्यादा  महिला अपराध बढे हैं

महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुमित्रा चौहान की अध्यक्षता में तथा जोन कोऑर्डिनेटर बिमला सरोहा रंजीता मेहता वंदना पोपली की उपस्तिथि में इसके अलावा जिन मुद्दों पर अहम् निर्णय लिए गए उनमे से  हरियाणा महिला कांग्रेस के लीगल सेल  जिसकी अध्यक्ष महिमा सिंह है उनके द्वारा महिला चौपाल कार्यक्रम का आयोजन  किया जाएगा और एक बड़े स्तर का कार्यक्रम भी लीगल सेल द्वारा आयोजित किया जाएगा जिसमें अखिल भारतीय महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुश्री सुष्मिता देव आएगी और दूसरे प्रांतों के प्रदेशाध्यक्ष हरियाणा के लीगल सेल के मॉडल की तर्ज पर कानूनी सलाह के लिए दूसरे प्रांतों में भी यह कार्यक्रम शुरू किया जायेगा

इसी तरह  महिला कांग्रेस द्वारा चुने हुए महिला प्रतिनिधि, चुने हुए सरपंच, पंच, जिला पार्षद, काउंसलर, नगर परिषद जिला परिषद चेयरमैन का सम्मेलन किया जाएगा जिसका आयोजन चित्रा सरवारा द्वारा किया जाएगा जो कि अखिल भारतीय महिला कांग्रेस कमेटी की सचिव है इसका आयोजन अंबाला में किया जाएगा एक अन्य कार्यक्रम भी महिला कांग्रेस द्वारा किया जाएगा जोकि नीना राठी  द्वारा किया जाएगा जोकि महिलाओं के राजनीतिक सशक्तिकरण के लिए होगा जिसमें श्री सुष्मिता देव जी भी आएँगी  इसके साथ-साथ मै साहस हूँ  कार्यक्रम की विस्तृत रूप से चर्चा हुई जिसमे निर्णय हुआ कि अगले 15 दिनों में हिसार जोन का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा जोकि वंदना पोपली हिसार जोन कोऑर्डिनेटर द्वारा किया जायेगा इसके अलावा गुडगाँव जोन का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा जोकि रंजीता मेहता गुडगाँव जोन कोऑर्डिनेटर द्वारा किया जायेगा बैठक में दो नयी नियुक्ति भी की गयी डॉ नीना राठी को जनरल सेक्रेटरी एडमिनिस्ट्रेशन तथा सुधा भरद्वाज को जनरल सेक्रेटरी आर्गेनाइजेशन पद पर नियुक्त किया गया

Read More

Rico’s Golmol Gallan has all the Colours of Craziness of Love

Apr 15, 2018

Chandigarh 11 April 2018. Punjabi Music Industry has become such a vast platform that even listeners are welcoming every new song with open arms. Their taste and choice of music has become eclectic and to grace the league of crispy-catchy music, singer Rico has given us his new song called ‘Golmol Gallan’. After giving back to back romantic hits like ‘Tere Bina’ and ‘Baarishaan’, Rico has come out with another shade of romance: peppy and comic, in Golmol Gallan. It is on the track to top the chartbusters.

The lyrics of this crazy and fun number are jotted down by Jung Sandhu. The beats of ‘Golmol Gallan’ are given by SoNew Ramgarhia.  Director duo DJ and RD, of Filmy Gang, have left no stone unturned to make ‘Golmol Gallan’ a special treat for the music world. The video of the song is edited by Jatin Kumar.

The talented singer, Rico, said, “I am trying something out of my comfort zone in Golmol Gallan. The fun of falling for a girl completely out of your league and then trying to woo her, I had absolute blast singing and making this song. The beauty of Australia has enhanced the song. I believe in DJ and RD’s directorial talent and have done my best to stay true to my music as well. I have got some really encouraging fan mails about the teaser of the song. I am excited to see how people will react to this side of me, a bit quirky and good-natured, in Golmol Gallan.”

The directors of Golmol Gallan, Divyajot and Rajbir Dhanjal,said, “Golmol Gallan is a bit different from what Rico has tried till date, and he has definitely nailed it. The song has been shot in the beautiful locales of Australia where we faced some challenges initially. However, once the song went on floor, it was a complete party on the sets. We are grateful to Mr. Baljinder Singh Mahant, Managing Director of TOB Gang, for giving us the opportunity to experiment out of our limits, literally as well, because we got to shoot Golmol Gallan in Australia. It was a memorable experience for the whole team. We have poured our heart and hard work into the song and look forward to a great response from all. ”

“After BJay Randhawa’s By God, we have released Golmol Gallan within ten days of time span. We are absolutely thrilled with the kind of response By God has garnered. It is still ruling the music charts and we look forward to the same reception for Rico’s song too. If I talk about Rico he is immensely talented and hardworking which is clearly evident in the song Golmol Gallan. I just hope audience will see his dedication and innocence and will shower their love on this song,” the producer of the song Prabhjot K Mahant, Director of TOB Gang, quoted.

Read More

मिसेज इंडिया पंजाब 2018 मई में

Apr 15, 2018

विवाहित महिलाओं के लिए एक अद्वितीय सौंदर्य प्रतियोगिता

चंडीगढ़

, 12 अप्रैल: मिसेज इंडिया पंजाब को चुनने के लिए पंजाब और चंडीगढ़ विवाहित महिलाओं की मेजबानी करने के लिए

 

तैयार हैं। इस प्रतिष्ठित एवं अनोखी सौंदर्य प्रतियोगिता में पंजाब और चंडीगढ़ निवासी विवाहित महिलाएं शामिल होकर खिताब जीत सकती हैं।

यह घोषणा आज यहां श्रीमती इंडिया पेजेंट्स एंड प्रोडक्शन प्राइवेट लिमिटेड की प्रबंध निदेशक दीपाली फडनीस, और ज्योति रूपाल, क्लासिक मिसेज एशिया इंटरनेशनल पापुलेरिटी क्वीन 2017 द्वारा संयुक्त तौर पर होटल अरोमा में की गई।

दीपाली ने कहा कि पंजाब और चंडीगढ़ में शादीशुदा महिलाओं तक पहुंचने के लिए इस वर्ष एक्सक्लूसिव पंजाब संस्करण की शुरुआत की गई है, जो सौंदर्य, शक्ति,साहस और सम्मान के लिए जानी जाती हैं।

मिसेज इंडिया पंजाब का आयोजन ज्योति रूपाल, क्लासिक मिसेज एशिया इंटरनेशनल पापुलेरिटी क्वीन 2017 और क्लासिक मिसेज इंडिया 2017 की प्रथम रनर अप क्राउन धारक द्वारा किया जा रहा है, जो एक सेना अधिकारी की पत्नी हैं, हॉस्पेटिलिटी इंडस्ट्री प्रोफेशनल, शिष्टाचार प्रशिक्षक और एजुकेशनिस्ट हैं।

आज यहां मीडिया को संबोधित करते हुए दीपाली फडनीस ने कहा कि यह भारत में विवाहित महिलाओं के लिए सबसे बड़ा मंच है और विश्व की प्रीमियम सौंदर्य

प्रतियोगिताओं का एकमात्र प्रवेश द्वार है।

ज्योति रूपाल, रीजनल डायरेक्टर, पंजाब एडीशन ने कहा कि ‘‘इस आयोजन से यह पता चलता है कि विवाहित महिलाएं भी अविवाहित महिलाओं की तरह ही आत्मविश्वास, बुद्धिमान और उत्साही हैं। यह सुंदरता के बारे में रूढ़िवादी सोच को तोड़ता है और  दूसरों को अपने बारे में अच्छा और सुंदर महसूस करने को प्रेरित करने वाला आयोजन है।’’

ज्योति रूपाल ने बताया कि ‘‘पंजाब और चंडीगढ़ से किसी भी विवाहित महिला, तलाकशुदा या विधवा, तीन आयु वर्गों में से किसी में, जैसे कि ‘मिसेज इंडिया पंजाब-2018’, 18 से 40 वर्ष, ‘क्लासिक मिसेज इंडिया पंजाब-2018’, 40 से 60 वर्ष और 60 साल से ऊपर ‘सुपर क्लासिक मिसेज इंडिया-2018’।

मिसेज इंडिया पंजाब की ऑडिशन 19 मई 2018 को आयोजित किया जाएगा और ग्रैंड फिनाले 9 जून 2018 को चंडीगढ़ में आयोजित किया जाएगा।

Read More

आखिर कहाँ सुरक्षित है बेटिया ? ,बलात्कार की घटनाओ से शर्मशार होता भारत -RAKESH SHARMA

Apr 14, 2018

राकेश शर्मा

देश में हर रोज कोई ना कोई घटना घटित होती रहती है किसान की आत्महत्या, आरक्षण पर आगजनी, सड़को पर उतर कर रोजगार की मांग करते लाखो युवा, लेकिन इस सब से बड़ी घटना है बलात्कार ओर बलात्कारीयो को सजा दिलवाने के लिए जब देश की  महिलाएं , बेटिया सड़को पर उतर जाती है और कभी अनशन कभी रात को  कैंडल मार्च के सहारे देश की सरकार को जगाने का काम करती है अब ये देश की सड़को पर आम नज़रा है लकिन हमे ये भी जानना जरूरी है की बलात्कार की घटनायें सामाजिक घटना है ये हर वर्ग और हर धर्म के साथ हो सकती है जो देश के लिए शर्म की बात है ?

देश मे जो कुछ इन दिनों घट रहा है वो बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे को भी कही ना कही धूमिल करता दिखाई दे रहा है क्योंकि सरकार जहाँ सरकार महिलाओं व् बेटियों के उत्थान के लिए कई योजनाये चला कर उनकी सुरक्षा और कानून बना कर उनको सुरक्षित होने दम भर रही है लेकिन इन सब के मध्य ऐसी घटना घटित होने के उपरांत एक सवाल देश के प्रत्येक माता पिता के जहन में उठ ही जाता है की आखिर कहाँ सुरक्षित है बेटिया ?उन्नाव ओर कठुआ की घटनाओं से आज माता पिता सहमा हुआ है ओर पूछने को मजबूर है कि जो सरकार बेटी बचाओ की पब्लिसिटी पर करोड़ो ख़र्च कर रही है बढ़े बढ़े सलोगोनो से गांव से लेकर शहर तक हर दीवार ,अखबार , सरकरी कार्यालय दीवार पर टंगे हुए कैलेंडर इन सब से ये जाहिर होता है सरकार  ये दिखाने मे कामयाब जरूर हुई  है की देशवासियो आप  बेटियों की चिंता मत करो सरकार उनकी पढ़ाई लिखाई , शादी ,और हर सपने को साकार करने मे आप साथ है क्या सलोगोंने के सहारे ही सुरक्षित रह पाएगी बेटिया ? कड़वा सच तो ये है की ना तो उनके लिए घर सुरक्षित है न ही पडोस ओर ना ही स्कूल , संस्थान क्योंकि आज आलम है है की कई घटना इन सस्थानों मे भी घट चुकी हैं और ना जाने कब कोई इंसान भेडिये  की शक्ल में आ कर इनकी जीवन लीला समाप्त कर दे ओर उसके शरीर को छली छली करदे  कोई नहीं जानता अब हालात ये हो गए है की आज देश के किसी भी राज्य में बलात्कार की घटना घटे तो हर माता पिता का दिल दहल जाता है ओर सोचने को मजबूर कर देता है कि आखिर कहाँ सुरक्षित है बेटिया ?
 कभी सिस्टम की कमी तो कभी राजनीतिक सम्बंध होने के कारण ये इंसान की शक्ल में खुले आम घूमते हुए दरींदो का कुछ नही बिगड़ता साल 2012 में निर्बय कांड हुआ तो देश की जनता बलात्कारियो को पकड़वाने के लिए सड़कों पर उतर गई और अब कठुआ ओर उन्नाव में जो हुआ फिर वही मंजर आँखों के सामने आ जाता है अब सवाल ये उठता है कि क्या बलात्कारीयो को सजा दिलवाने के लिए सड़कों पर आकर न्याय की भीख माँगना कहाँ तक सही है आखिरकार इन लोगो को किसका श्रय मिलती है ? आखिर वो कौन लोग है जो इन बलात्कारियो को भी बेकसूर साबित करने के लिए इनके साथ कदमताल करते हुए दिखाई देते है ?

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो  वर्ष 2017 की रिपोर्ट पर एक नज़र डाली जाए तो आकड़े चौकाने वाले है देशभर में 28947 बलात्कार के मामले दर्ज किए गए और मध्यप्रदेश में 4882 , उतरप्रदेश 4816, महाराष्ट्र में 4186 मामले दर्ज किये गए । देश भर में हर घण्टे में तीन से चार बलात्कार की घटनाएं सामने आती है। और राजनीतिक पार्टियां रोटियाँ सेकने के लिए उतारू हो जाती है फिर आरोप प्र्त्यारोप का दौर शुरू हो जाता है कोई कड़ी निदा करता है तो कोई बेतुके ब्यान देकर जलती हुई आग में घी डालने का काम करते देखे जा सकते है । क्या देश का सिस्टम का कसूर है ये फिर राजनीती मुद्दा जिसका समाधान तो सभी चाहते है लेकिन बात कोई नहीं करता और पीड़ित परिवार कभी अनशन करने लगता है।  आज देश की जनता अनशन , उपवास के सहारे न्याय ना मिलने का विश्वाश कही खो ना दे इसलिए अब सरकार को बलात्कार जैसी घटनाओं पर कड़ा कानून बनाना समय की माँग है और अगर सरकार ये काम नहीं कर सकती तो दिक्कार है ऐसे सिस्टम पर जब  की बेटी के बलात्कारियो को सलाखों के पीछे पहुँचाने के लिए उसकी लाश को सड़कों पर रखकर न्याय की भीख ना मांगनी पड़े —–

Read More