All for Joomla All for Webmasters

उदाकिशुनगंज (मधेपुरा):-कानून को ताख पर रख ,धारा 145 लागू रहने के बाबजूद हो रहा है भवन निर्माण

Apr 6, 2018

धर्मेन्द्र कुमार मिश्रा की उदाकिशुनगंज से एक रिपोर्ट ।

■ बार-बार थाना प्रभारी गुमराह कर भवन रोकने के वजाय अप्रत्यक्ष रूप से करा रहे हैं भवन का निर्माण

उदाकिशुनगंज-पुरैनी प्रखंड अंतर्गत सपरदह पंचायत के कडामा गांव के निवासी स्वर्गीय जीवानंद आचार्य के पुत्र योगेंद्र आचार्य व देवेंद्र आचार्य का लगभग 30 वर्षों से उन्हीं के पारिवारिक जमीन के हिस्सेदार स्वर्गीय भवदेव आचार्य के पुत्र सिद्धिनाथ आचार्य से जमीनी विवाद चल रहा है। इसी संबंध में सिद्धनाथ आचार्य ने पुरैनी के थाना प्रभारी को लिखित आवेदन देकर सुदर्शन आचार्य, मानस आचार्य, दोनों का पिता योगेंद्र आचार्य एवं योगेंद्र आचार्य, देवेंद्र आचार्य दोनों का पिता जीवानंद आचार्य सभी साकिन कारामा पर आरोप लगाया कि खाता नंबर 442 खेसरा नंबर 599 एवं 600 रकबा 35 डिसमिल पर जबरन पक्का मकान बना रहा है। जबकि उक्त जमीन पर धारा 145 लगा हुआ है। जिसका की वाद संख्या 209/12 है फिर भी उक्त जमीन पर पक्का का मकान बनाया जा रहा है।पुरैनी प्रशासन को बार-बार आवेदन एवं मौखिक रूप से जानकारी देते रहा हूं फिर भी पुरैनी थाना प्रभारी उचित कदम नहीं उठा रहे हैं एवं प्रतिवादी द्वारा मकान का काम जारी रखे हुए है।प्रसासन के सामने भी निर्माण कार्य जारी रहता है जो कि कानून के साथ खिलवाड़ करना हुआ। बताते चलें कि 26 अप्रैल 2018 को योगेंद्र आचार्य की बेटी की शादी है शादी को लेकर योगेंद्र आचार्य के द्वारा घर को सुदृढ़ किया जा रहा था और घर के पिछले भाग में पक्की घर का भी निर्माण प्रारंभ किया गया।लेकिन इसी क्रम में सिद्धिनाथ आचार्य के द्वारा जमीनी विवाद का हवाला देते हुए पुलिस के द्वारा घर सुदृढ़ीकरण का कार्य रुकवा दिया । इसी कडी में 24 मार्च को सिद्धनाथ आचार्य के द्वारा दिए आवेदन को अग्रसारित करते हुए अंचलाधिकारी ने थाना प्रभारी को न्यायालय कार्यपालक दंडाधिकारी के न्यायालय में चल रहे 145 का मामला का हवाला देते हुए उक्त जमीन पर कार्य रुकवाने को कहा। लेकिन घर के पीछे बना रहे पक्की मकान के निर्माण को रोकने के वजाय अप्रत्यक्ष रुप से पुरैनी थाना प्रभारी के सहयोग से निर्माण कार्य जारी रखे हुए है। मालूम हो कि उक्त विवादित जमीन पर उदाकिशुनगंज दंडाधिकारी के द्वारा 145 धारा लगाई गई है जिसका की अगली तारीख 8 मार्च को है।और इसका एक प्रति पुरैनी थाना को भी भेजा गया है।लेकिन फिर भी उक्त जमीन पर निर्माण कार्य जारी है। इसी विवादित जमीन के मामला में डीसीएलआर ,आयुक्त कोसी प्रमंडल सहरसा ने भी सिद्ध नाथ आचार्य के पक्ष में फैसला दिया है। दूसरी तरफ योगेन्द्र आचार्य,मानस आचार्य और सुदर्शन आचार्य का कहना है कि जहाँ पक्की घर का निर्माण हो रहा है वह जमीन धारा 145 में नहीं आता है।जबरन मेरे मकान को रोकने की साजिश किया जा रहा ताकि मेरे घर 26 अप्रेल को होने वाला लड़की की शादी रुक जाए।मेरे पास रहने का घर नहीं है किसी तरह घर बना रहा हूँ वह भी मेरे फरीकेन को रास नहीं आ रहा है। अंचलाधिकारी अशोक कुमार मंडल ने कहा कि हमे सिद्ध नाथ आचार्य के द्वारा आवेदन प्राप्त हुआ और तत्काल हीं कार्यवाही हेतू थाना प्रभारी को अग्रसारित कर दिया।

थाना प्रभारी सुनील कुमार भगत ने कहा कि आवेदन मिलते हीं हमने कार्यवाही की बॉन्ड भी भरवा लिए हैं।स्थल पर जाकर कई बार काम बंद भी करवा दियें हैं।लेकिन वहाँ से प्रसासन वापस आता है कि फिर घर बनाना सुरु कर देता है। हम धारा 144 के लिए आवश्यक कार्यवाही कर रहें हैं।

Read More

औरंगाबाद:-पार्टी कार्यकर्ताओं ने भाजपा का 38 वां स्थापना दिवस मनाया

Apr 6, 2018

गणेश कुमार की एक रिपोर्ट ।

औरंगाबाद-भारतीय जनता पार्टी द्वारा समशेर नगर ग्रामीण मंडल के नीमा ग्राम में अकोड़ा पंचायत के अध्यक्ष अजय कुमार रिंकू की अध्यक्षता में पार्टी का 38वां स्थापना दिवस मनाया गया।इस कार्यक्रम उपस्थित भाजपा जिला प्रवक्ता अश्विनि तिवारी ने कहा कि पार्टी आज 38 सालों में देश को नई ऊंचाई तक ले जाने का संकल्प आज पूरा हुआ।देश मे सत्ता के माध्यम से पंडित दीनदयाल उपाध्याय और डॉ श्यामा प्रसाद के सपनों को साकार किया जा रहा है,नेता द्वय का सपना था समाज के अंतिम पंक्ति के लोग को देश के सरोच पद पर आसीन कर के ही देश का विकाश संभव है जो आज पार्टी ने चरितार्थ कर दिया।विगत दिनों में कुछ असामाजिक लोगो द्वारा चंद राजनीतिक दलों के उसकावे पर देश को अअस्थिर करने का काम करवाया गया लेकिन इस देश की भोली भाली जनता ने नकार दिया।श्री तिवारी ने कहा कि एस सी एस टी व साम्प्रदायिक दंगा राज्य के चंद राजनीतिक लोगों द्वारा कराने का पूरा प्रयास किया गया राज्य का कानून व्यवस्था सुदृढ़ रहने के चलते कही कोई बाल बांका नही हो सका।उन्होंने कहा कि जिसे कानून का पता नही है वे राज्य और देश को क्या चलाएंगे।बाबा भीम राव अम्बेडकर पर कुठाराघात किया गया जिसका भारतीय जनता पार्टी देश के जनता कतई बर्दाश्त नही करेगी।व 2019 के होने वाले लोकसभा चुनाव में देश को अअस्थिर करने वाले कांग्रेस राजद सपा बसपा सहित विभिन्न राजनीतिक दलों को सबक सिखाने का काम इस देश की जनता करेगी।

इस मौके पर समसेर नगर मंडल अध्यक्ष राम पुकार पांडेय,उपाध्यक्ष जगरनाथ शर्मा, भाजयुमो जिला मंत्री विवेकानंद मिश्र,कमल क्लब के जिला संयोजक सुनील दुबे,ओबरा विधान सभा के विस्तारक कमलेश दत पांडेय,महामंत्री सरयू सिंह,अवकाश प्राप्त शिक्षक कमला प्रसाद शर्मा,कमल क्लब के सदस्य राजकुमार ,रणधीर कुमार आदि मौजूद रहे।

Read More

औरंगाबाद:-रामनवमी जुलूस के दौरान औरंगाबाद शहर में हुए उपद्रव मामले में युवा राजद के जिला अध्यक्ष युसूफ आजाद अंसारी को फंसाया जाना गलत:- बसंत बादल

Apr 6, 2018

गणेश कुमार की एक रिपोर्ट ।

औरंगाबाद:-रामनवमी जुलूस के दौरान औरंगाबाद शहर में हुए उपद्रव मामले में युवा राजद के जिला अध्यक्ष युसूफ आजाद अंसारी को एक राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया गया है । युवा राजद के प्रखंड अध्यक्ष बसंत बादल ने प्रेस बयान जारी कर कहा कि जिला प्रशासन को मामले की सच्चाई  व हकीकत जानकर उच्चस्तरीय जांच करनी चाहिए। अगर जिले का सामाजिक  सौहार्द्र बिगाड़ने का इशारा किसी के द्वारा किया गया है तो वैसे लोगों को चिन्हित कर कड़ी से कड़ी कार्यवाई की जानी चाहिए ना कि  निर्दोष लोगों को इस मामले में जान बूझकर राजनीति  के तहत  फंसाया जाए ।

इस मौके पर युवा राजद के प्रखंड उपाध्यक्ष सुभाष यादव, प्रीतम यादव, अशोक कुशवाहा ,अंबिका यादव, नीरज शर्मा ,टुनू यादव, हीरा कुशवाहा एवं अन्य दर्जनो कार्यकर्ता  मौजूद रहें।

Read More

औरंगाबाद:-बालू लदा ट्रक्टर ने एक दुकान में मारी धक्का , एक युवक जख्मी

Apr 6, 2018

गणेश कुमार की एक रिपोर्ट ।

दाउदनगर(औरंगाबाद):- दाउदनगर पटना रोड से आ रही एक बालू लदे ट्रैक्टर अजय कुमार केसरी दुकान में धक्का मारते हुए घुस गई जिसमें बताया जाता है कि 70 से 80 हजार का नुकसान हुआ है और एक चाय पी रहे व्यक्ति  सनोज कुमार नलबंद टोली वार्ड नंबर 8 घायल हो चुके हैं।

यह जानकारी देते महादलित विकास मंच के अध्यक्ष टुल्लू रावत ने बताया कि एक निजी अस्पताल में घायल का इलाज चल रहा है । उन्होंने बताया कि घायल व्यक्ति   खतरे से बाहर हैं वहीं ट्रैक्टर को पुलिस ने जप्त कर लिया है।

Read More

रेफरल अस्पताल बिहटा में दहशत फैलाने वाले की तलाश में पुलिस,-किशोर चौहान, बिहटा

Apr 6, 2018

किशोर चौहान, बिहटा 

रेफरल अस्पताल बिहटा में दहशत फैलाने वाले की तलाश में पुलिस,प्रभारी चिकित्सा पदा० ने दिखाया सीसीटीवी फुटेज,बताया मरीजों को भय दिखाकर भगाते है जांच घर और दवा वाले

पटना)।रेफरल अस्पताल बिहटा में दहशत फैलाने वालों की तलाश में जुटी पुलिस।प्रभारी चिकित्सा पदा० ने दिखाया सीसीटीवी फुटेज।बताया मरीजों को भय दिखाकर भगाते है जांच घर और दवा  वाले।परिसर में हमेशा लगा रहता है असामाजिक तत्वों का जमावड़ा।उन्होंने पुलिस से सुरक्षा की गुहार लगाते हुए बताया है कि इस घटना के बाद अस्पतालकर्मी दहशत में है।बिहटा थाना में दिए गए आवेदन में उन्होंने बताया है कि आधी रात को 2 मोटर साइकिल पर सवार 4-6लोग आये।जिसमे एक अस्पताल परिसर में घुस गया।वह मोबाइल फोन पर यह पूछ रहा था कि किसी की जान मारने के लिये अपने साथियों से पूछ रहा है।यह बात वहां भर्ती कुछ गांव के मरीजों ने सुनकर उन्हें बताया है। इस संबंध में थानाध्यक्ष रंजीत कुमार सिंह ने बताया कि सीसीटीबी फुटेज में जिसकी तस्वीर  है ,उसकी तलाश जारी है।अस्पताल परिसर में पुलिस बल तैनात किया गया है।

Read More

वर्तमान दलित आंदोलन क्या राजनीति से प्रेरित कदम करार दिया जाय ?-M.P.SINGH एम0पी0सिंह की एक रिर्पोट

Apr 6, 2018

 

एम0पी0सिंह की एक रिर्पोट

सिद्धार्थनगर:- मा0 उच्चतम न्यायालय नई दिल्ली के संविधान प्रदत्त समानता और संरक्षण के नागरिकों के मौलिक अधिकारों पर दिये गये फैसले और उसके विरोध में उत्पन्न वर्ग विशेष का आंदोलन और उससे सामाजिक प्रभाव का आंकलन करते हुए मा0 उच्चतम न्यायालय के फैसलों पर आम कानूनी विशेषज्ञों द्वारा अपनी राय सुमारी करते हुए 03 मुद्दों पर अपनी राय जाहिर किया गया, जिसके मुताबिक वर्तमान लोकतंत्र में शीर्ष न्यायालयों के फैसलों पर राजनीति प्रेरित आंदोलनों और न्यायिक आदेशों के विरूद्ध प्रदर्शन को एक खतरनाक भविष्यगत उदाहरण के रूप में आंका गया।

आज भारतीय लोकतंत्र में विभिन्न जातियां, दलीय राजनीति और सत्ताप्राप्ति के लिए वोट की राजनीति में भारतीय लोकतंत्र की सुरक्षा और संविधान की सुरक्षा तथा नागरिकों के मौलिक अधिकारों और नागरिक स्वतंत्रता का एकमात्र रक्षाकवच भारत के उच्च न्यायालय और शीर्ष न्यायपालिका उच्चतम न्यायालय है। राज्यों में जिस तरह दलगत स्वार्थों के बीच कार्यपालिका का गठन हो रहा है, उसमें उत्तर प्रदेश विशेषकर पुलिस प्रशासन सत्ता के दबाव में इतना अधिक कानून का दुरूपयोग उक्त एक्ट के तहत कर चुका है जिसमें एक्ट की मूल मंशा के विपरीत राजनैतिक हथकण्डों के रूप में और अपने विरोधियों को सबक सिखाने तथा केवल धन प्राप्त के लिए एक नहीं जनपद में सैकड़ों एफ0आई0आर0 इसके उदाहरण हैं। अदालत द्वारा केवल यह सुनिश्चित किया गया है कि जांच द्वारा यह साबित हो जाय कि उस एक्ट के तहत क्या वास्तविक उत्पीड़न हुआ है। आज की स्थिति यह है कि महिलाओं की रक्षा और अस्मिता के लिए बने कानूनों का उत्तर प्रदेश पुलिस इस तरह दुरूपयोग कर रही है, जिस तरह दलित संरक्षण के एक्ट का दुरूपयोग हुआ है। आज भारी संख्या में जनपद में महिलाओं के 164 के बयान के आधार पर प्रतिदिन कम से कम एक परिवार जेल जा रहा है, जो पूरी तरह निर्दोष है और धारा-376 लगायत पास्को एक्ट का पुलिस और तथाकथित पीड़ित पक्ष धनादोहन करने के लिए विपक्षियों के विरूद्ध इस प्रकार का हथकण्डा पुलिस को मिलाकर करता जा रहा है, जिससे न्याय के प्रति न केवल अविश्वास बढ़ता जा रहा है, अपितु नागरिक यह महसूस कर रहा है कि वह इस लोकतंत्र में अपनी सरकार के बजाय अंगे्रजों से भी बदतर सरकारी व्यवस्था के बीच इंसाफ की तलाश में रोशनी की किरण पाने के लिए चीख रहा है। दूसरी अहम बात यह है कि न्यायिक फैसलों को दबावबश बदलने के लिए एक जमात का खड़े हो जाना फिर दूसरी जमात का इसी उदाहरण को लेकर पूरे कानून व्यवस्था के लिए खतरा पैदा करना यह वर्तमान न्यायिक व्यवस्था की सुरक्षा के लिए स्वयं एक खतरा बनता जा रहा है, जिस पर न केवल कार्यपालिका अपितु समाज के अगुओं को भी विचार-विमर्श करना चाहिए। अभी हाल ही में जोगिया के कोतवाल रामशंकर गौतम द्वारा विपक्षी के फर्जी वसीयतनामा पर जमीन कब्जा करवाने का अवैध समझौता करते हुए पिता के कातिलों को यह राय दिया गया कि वह अपने विपक्षियों को लड़की छेड़खानी में फंसाकर मुकदमा लिखवा दे और नायब तहसीलदार से फैसला लेकर मेरे पास आये और जिनके बाप का कत्ल हुआ है, उसके इकलौते वारिस एकमात्र परिवार के मुखिया को सबक सिखाने का सौदा यह एक बानगी है, जो जिले की पुलिस के हथकण्डों और कानून का दुरूपयोग कर केवल धन कमाने और गलत तत्वों को लाभ पहुंचाने के लिए अपने कानूनी दण्डे का प्रयोग निर्भय होकर कर रही है। उच्चाधिकारियों द्वारा इन्हीं कोतवालों से पैसा लेकर कोई भी निष्पक्ष जांच नहीं की जाती, चाहे को मरे या जिये या जेल जाय। लाश की सौदागर उत्तर प्रदेश और सिद्धार्थनगर पुलिस है।

Read More

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के निजी विद्यालयों की मनमानी फीस पर रोक लगाने के फैसले का किया गया स्वागत-M.P.SINGH एम0पी0सिंह की एक रिर्पोट

Apr 6, 2018

एम0पी0सिंह की एक रिर्पोट

 इन निजी शैक्षणिक संस्थानों की अंग्रेजी के नाम पर शिक्षा में शोषण अंग्रेजों के लगान वसूली को भी फीका कर दिया है।
सिद्धार्थनगर:- उत्तर प्रदेश की योगी-मोदी नेतृत्व की भाजपा सरकार द्वारा निजी शैक्षणिक संस्थानों के शोषणपरक कार्यों पर रोक लगाने के फैसले का जिले की जनता द्वारा स्वागत किया गया है। गोष्ठियों में हुई जनचर्चाओं और प्रतिक्रियाओं से मिली खबरों के मुताबिक आज सामान्य जनता सबसे अधिक शोषण का शिकार है। निजी अंग्रेजी शिक्षा पर आधारित शैक्षणिक संस्थानों से विशेष रूप से पीड़ित है। प्रतिवर्ष नई किताबों, पुराने बच्चों का पुनः एडमिशन के रूप में मोटी भारी-भरकम रकम तथा लाइब्रेरी, कम्प्यूटर शिक्षा, प्रयोगशाला आदि के नाम पर मनमाना शैक्षणिक शुल्क में वृद्धि से हर व्यक्ति पीड़ित है।

अपने पाल्यों के भविष्य के खातिर कर्ज लेकर इन तथाकथित अंग्रेजी माध्यम के निजी शैक्षणिक संस्थानों में अपनी गाढ़ी कमाई खर्च करने पर मजबूर है। जहां न तो प्रशिक्षित शिक्षक रहते हैं और न ही कम्प्यूटर प्रशिक्षक और विज्ञान लैब के लिए प्रशिक्षु अध्यापक रहते हैं न ही फिजिकल प्रशिक्षण हेतु उचित शिक्षक, खेल-कूद पर कोई व्यवस्था रखते हैं। सभी कार्यवाही कागजी किन्तु इनके शुल्क की भारी- भरकम रकम विद्यार्थियों के संरक्षकों से वसूली जाती है और पूरी तरीके से निजी शैक्षणिक संस्थान शिक्षा को एक व्यापार बना लिये हैं। ऐसे में योगी सरकार का ध्यान इस बिन्दु पर आया। इसका 25 फीसदी लाभ तत्काल बच्चों के अभिभावकों को मिलने की उम्मीद है। 75 फीसदी अध्यादेश के बाद भी असफलता के कारण उच्च शिक्षा निदेशकों का भ्रष्टाचार और इन विद्यालयों के फर्जी डाटा और कम्प्यूटर की संख्या दिखाकर फर्जी शिक्षकों की लिस्ट के आधार पर वसूली पर रोक लगाना आसान कार्य नहीं है, लेकिन योगी सरकार के इस अध्यादेश से भाजपा के पक्ष में उचित माहौल बनने का मार्ग प्रसस्त हुआ है।

Read More

जन अधिकार छात्र परिषद ने किया मगध विवि के पटना स्थित कॉलेजों में तालाबंदी-पटना से रजनीश कुमार की एक रिपोर्ट

Apr 6, 2018

रजनीश कुमार की एक रिपोर्ट

परीक्षा परिणामों में धांधली के खिलाफ जन अधिकार छात्र परिषद का जोरदार प्रदर्शन

छात्रों के दवाब में विवि शाखा कार्यालय ओ.एस. डी ने दिया इस्‍तीफा

पटना : मगध विश्‍वविद्यालय में वोकेशनल कोर्सों के रिजल्ट में धांधली, बी.एड. एक्जाम में निर्दोष छात्र/छात्राओं को को निष्‍कासन, पहले सेमेस्‍टर के रिजल्टक का प्रकाशन नही होने और बी.एड एग्जाम के पेपर लीक होने के विरोध में आज जन अधिकार छात्र परिषद ने प्रदेश उपाध्यक्ष विकाश बॉक्सर के नेतृत्व में पटना जोन के सभी कॉलेजों की तालाबंदी की और जमकर नारे लगाये। इसके अलावा अपने मांगों को लेकर विवि के सभी कॉलेजों से सैकडों की संख्‍या में छात्रों ने शाखा कार्यालय ओ.एस. डी प्रोफेसर मोहम्मद कुदुस अंसारी व नोडल ऑफिसर आर यू सिंह का घंटों घेराव किया गया। बाद में छात्रों की समस्याओं का निवारण न कर पाने की अवस्था में दोनों पदाधिकारियों ने संयुक्त रूप से अपने पद से छात्रों के समक्ष ही लिखित तौर पर विवि प्रशासन को अपना इस्तीफा दे दिया।

बाद में विश्‍वविद्यालय के कुलसचिव ने कॉलेज ऑफ कॉमर्स के छात्र संघ के अध्‍यक्ष सह जन अधिकार छात्र परिषद ने प्रदेश उपाध्यक्ष विकाश बॉक्सर से बात कर मामले में जल्‍द कार्रवाई करने का अश्‍वासन दिया, जिसके बाद छात्रों ने प्रदर्शन वापस लिया। इस दौरान विकास बॉक्‍सर, कौंसिल मेम्बर सागर उपाध्याय और अमित पाठक ने विवि प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि विवि की समस्‍याओं पर कुलपति तीन दिनों के अंदर छात्रों करे और पांच दिनों में रिजल्ट सुधार किया जाए, वरना इस बार प्रदर्शन और उग्र होगा। साथ ही उन्‍होंने ये भी कहा कि  जिस विषय का पेपर लीक हुआ है, उसकी परीक्षा दुबारा हो और ए एन कॉलेज में गलत तरीके से निष्‍कासित छात्रों की परीक्षा फिर से हो।  अन्यथा जन अधिकार छात्र परिषद पूरे बिहार में चरणबद्ध उग्र आंदोलन  करेगी।

उक्त आंदोलन के कार्यक्रम में कॉलेज ऑफ कॉमर्स के छात्र संघ अध्यक्ष विकाश बॉक्सर, कौंसिल मेंबर सागर उपाध्याय, संयुक्त सचिव अमित पाठक, निकिता झा, अभय सिंह ,सुभम सिंह,भावना यादव ,कुणाल ,आशुतोष,प्रकाश सिंह छात्र परिषद के विश्विद्यालय अध्यक्ष आकाश सिंह, प्रदेश महासचिव अरविंद यादव, मीडिया प्रभारी रविरंजन, प्रदेश महासचिव राहुल मंडल, युवा नेता रमेश राम, अंकित , आलोक सिंह ,वसीम खान, कुणाल सिंह, शेखर पाठक सहित हज़ारो छात्र/ छात्राएँ उपस्थित थे।

Read More